Sheli Palan Yojana 2021 Maharashtra | Shelter Farming Grant Yojana 2021

Sheli Palan Yojana 2021:-भारत कृषि की भूमि है जहां अधिकांश लोगों की आजीविका कृषि पर निर्भर करती है। पशुपालन भी कृषि का बहुत प्रसिद्ध रूप है जो लोगों को बेहतर कमाई के लिए मदद करता है। बकरी पालन भी भारत में बहुत प्रसिद्ध हो गया है।

जैसा कि भारत में बकरे का मांस पसंद करने वालों की संख्या दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है जिसके कारण बकरी के मांस की कीमत दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है।

गरीब लोगों और पिछड़े वर्गों के लिए सरकार इतनी सारी सब्सिडी दे रही है और उन्हें आत्मनिर्भर बनाने में मदद कर रही है।महाराष्ट्र सरकार ने बकरी पालन / खेती शुरू करके गरीब पृष्ठभूमि के लोगों को आसानी से अपनी रोटी कमाने के लिए एक नई योजना शैली पालन योजना 2021 शुरू की है।

Sheli Palan Yojana
Sheli Palan Yojana

राज्य सरकार उन्हें बकरी पालन करने के लिए ऋण और सब्सिडी दे रही है “इस योजना को महाराष्ट्र शेली पालन योजना 2021 कहा जाता है।महाराष्ट्र में बहुत सारे किसान हैं जो बकरी पालन का व्यवसाय करके अच्छी खासी कमाई करते हैं।

Sheli Palan Yojana 2021

  • महाराष्ट्र राज्य में बकरी पालन व्यवसाय के लिए उपयुक्त भूभाग और जलवायु है। महाराष्ट्र राज्य सरकार ने किसानों को सब्सिडी प्रदान करने के लिए नाबार्ड (राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक) के साथ सहयोग किया है।
  • विभाग द्वारा खादी ग्रामोद्योग एवं अन्य संस्थानों द्वारा बकरी/बकरी पालन प्रदान किया जाता है। यह बकरियों की नस्लों, उनके लक्षणों, उनके आहार, उनके आवास और बीमारियों और उपचारों के बारे में व्यापक जानकारी प्रदान करता है।
  • यह उम्मीदवारों को उपलब्ध सरकारी सब्सिडी और सब्सिडी के बारे में भी सूचित किया जाता है यदि वे ऐसा करने में असमर्थ हैं। छोटे भूमिधारकों और भूमिहीन लोगों को विशेष सहायता दी जाती है। इसलिए, नौकरी छोड़ने के बजाय, वे अपने पैरों पर खड़े होते हैं और कुछ और काम करते हैं।

आश्रय कृषि अनुदान योजना

  • महाराष्ट्र सरकार पहले से ही कई पशुपालन संबंधी योजनाओं के लिए ऋण / ऋण प्रदान करती है। ऐसी योजनाओं में सरकार किसानों के लिए कर्ज का प्रावधान बैंक के पास छोड़ देती है। ऐसे में किसानों को सिर्फ मूल राशि ही लौटानी होगी।
  • उनके ब्याज की राशि राज्य सरकार द्वारा साझा की जाती है। इसी कड़ी में हम आपके लिए महाराष्ट्र शैली पालन ऋण योजना 2021/ शैली पालन योजना की जानकारी लेकर आए हैं। बकरी पालन या बकरी पालन एक ऐसा व्यवसाय है जिसमें किसान काफी मुनाफा कमा सकते हैं। मुख्य रूप से बकरियों के व्यापार में उन्हें बेचकर अच्छा मुनाफा कमाया जा सकता है।
  • एक युवा बकरी से एक वयस्क बकरी तक, इसमें 1 वर्ष का समय लगता है। बकरी द्वारा किए जाने वाले खर्च की बात करें तो यह बहुत ही कम है। वे भी बहुत कम हैं ताकि किसान को ज्यादा पैसे की जरूरत न पड़े।
  • लेकिन फिर भी छोटे किसान राज्य सरकार की मदद से इस योजना को शुरू कर सकते हैं। सरकार शेलीपालन ऋण योजना 2019 के लिए किसानों की काफी हद तक मदद कर रही है।

शहीद गोवारी स्मृति शैली पालन सहकारी समिति भगभंडवाल

  • सदर योजना के तहत सरकार ने केल्या परियोजना को मंजूरी दी, अरखड़िया के अनुसार शहीद गोवारी स्मृति शैली पालन सहकारी समिति, नागपुर को खर्च के अनुसार प्रदान किया गया है।
  • कमीत कामी जगत आपने आपने उत्पन्न और लाभ कासा वद्वु शकतो, या विशिष्ट चावदीने ने एक शैली पालन प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया।

Sheli Palan Yojana 2021 के लाभ

  • सामाजिक, आर्थिक और जाति समूहों में लगभग 1.5 करोड़ गरीब परिवार होने का अनुमान है।
  • इस योजना के तहत 90 परिवारों को आजीविका प्रदान की जाएगी। सरकार की योजना सरकारी बैंकों का जाल बढ़ाने और प्रति वर्ष 5,000 करोड़ रुपये तक का ऋण प्रदान करने की है।
  • ग्रामीण विकास मंत्रालय ने कृषि और पशुपालन मंत्रालय के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। इसके अनुसार गरीब परिवारों को डेयरी फार्मिंग, पोल्ट्री और बकरी पालन को बढ़ावा देने के लिए कर्ज दिया जाएगा।
  • ट्रेडिंग के लिए यह एक बढ़िया विकल्प है क्योंकि इसे छोटी पूंजी में किया जा सकता है। एक दो बकरियों से भी इस व्यवसाय को बढ़ाया जा सकता है।
  • मांस, खाल, ऊन और दूध के साथ-साथ उर्वरक भी महंगे दामों पर बेचे जाते हैं।
  • क्योंकि बकरी हर तरह की घास खाती है, उसका दूध पौष्टिक होता है और जो खाद पैदा करता है वह भी अच्छा होता है। उसकी खाद गुलाब के लिए विशेष रूप से फायदेमंद होती है।
  • बकरी के कारण निर्यात भी हाल ही में बढ़ा है। यह विदेशी मुद्रा भी अर्जित करता है।

महाराष्ट्र बकरी पालन ऋण योजना 2021

  • दोस्तों महाराष्ट्र सरकार की बकरी पालन ऋण योजना 2021 की पूरी जानकारी किसान यहाँ से प्राप्त कर सकते हैं। भारत में कुछ ऐसे क्षेत्र हैं जहां पानी और चारे की कमी है।
  • ऐसे क्षेत्रों में बकरी पालन काफी हद तक सफल होता है। बकरी की खुराक बहुत कम होती है। गाय भैंस आदि की तुलना में इसकी खुराक कम होती है और उत्पादन अधिक होता है।
  • बकरी पालन से जुड़कर किसान हर महीने अच्छी खासी कमाई कर सकते हैं और इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।
  • हम आपको इस पोस्ट में बताएंगे कि इस योजना के लिए क्या नियम और योग्यता है। इसके साथ ही आप शेलीपालन योजना को कैसे शुरू कर सकते हैं इसकी जानकारी भी संक्षेप में बताई जाएगी।
  • तो हमारी इस पोस्ट को ध्यान से पढ़ें और पूरी तरह से पढ़ने के बाद ही आपको इसके बारे में बेहतर जानकारी मिलेगी।

Sheli Palan Yojana 2021 के नियम और शर्तें क्या हैं?

इस योजना के लिए सरकार ने कुछ नियम और शर्तें रखी हैं, जिनका पालन करना सभी लाभार्थियों के लिए आवश्यक है, अन्यथा आवेदन रद्द कर दिया जाएगा। आवेदन के लिए नियम और शर्तें इस प्रकार हैं।

लाभार्थी के पास मॉडल प्रोजेक्ट रिपोर्ट होनी चाहिए। जिसमें बकरी की खरीद लागत, आवास की लागत और बकरी को बेचने पर मिलने वाले लाभांश को दिखाना होगा।

भूमि :- 100 बकरियों एवं 5 बकरियों के लिए वांछित भूमि 9,000 वर्ग मीटर होनी चाहिए। आवेदन करते समय लाभार्थी को 9,000 वर्ग मीटर की रेंट रसीद/एलपीसी/लीज एग्रीमेंट/नजारा नाका जमा करना होगा।

लाभार्थियों को बुनियादी ढांचे के निर्माण (बकरी/बकरी शेड के लिए 3,000 वर्ग मीटर और खुले स्थान के 6,000 वर्ग मीटर, कुल 9,000 वर्ग मीटर) और हरे चारे की खेती के लिए अपनी जमीन की व्यवस्था अनिवार्य रूप से करनी होगी।

राशि :- लाभार्थी को अपनी ओर से 2 लाख रुपये का निवेश करना होगा। अगर किसान कर्ज लेना चाहता है तो उसे कर्ज लेने के लिए 1 लाख रुपये देने होंगे। चेक / पासबुक / एफडी / या किसी अन्य पक्ष का प्रमाण होना चाहिए।

प्रशिक्षण :- लाभार्थी को बकरी पालन का प्रशिक्षण प्राप्त करना आवश्यक है। इसके लिए लाभार्थी को आवेदन के समय बकरी पालन में प्रशिक्षण प्रमाण पत्र संलग्न करना आवश्यक है।

जाति प्रमाण पत्र :- यदि आवेदक अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति का है तो आवेदन के समय जाति प्रमाण पत्र संलग्न करना आवश्यक है।

अन्य दस्तावेज :- लाभार्थी के पास आवेदन के समय फोटो/आधार/वोटर आईडी होना चाहिए। / पैन कार्ड / निवास प्रमाण संलग्न करना होगा।

Read More:-Bandhkam Kamgar Yojana Online Form pdf (Mahiti) Registration 2021

Leave a Comment